Home Blog Page 225

NIOS Admit Card 2021: क्लास 10वीं और 12वीं के प्रैक्टिकल एग्जाम के एडमिट कार्ड रिलीज, ऐसे करें डाउनलोड

0


NIOS Admit Card 2021 Released: नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ ओपेन स्कूलिंग ने औपचारिक तौर पर एनआईओएस क्लास दसवीं और बारहवीं के प्रैक्टिकल एग्जाम के एडमिट कार्ड रिलीज कर दिए हैं. वे कैंडिडेट्स जो इस साल एनआईओएस का सेकेंडरी और सीनियर सेकेंडरी प्रैक्टिकल एग्जाम देने जा रहे हों, वे आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर एडमिट कार्ड डाउनलोड कर सकते हैं. ऐसा करने के लिए एनआईओएस की ऑफिशियल वेबसाइट का एड्रेस है – sdmis.nios.ac.in.

 

ऐसे डाउनलोड करें एडमिट कार्ड –

  • एडमिट कार्ड डाउनलोड करने के लिए सबसे पहले आधिकारिक वेबसाइट पर जाएं यानी sdmis.nios.ac.in पर.
  • यहां होमपेज पर एक लिंक दिखेगा जिस पर लिखा होगा, ‘Public Exam Hall Ticket (Practical) Jan/Feb 2021’.
  • इस लिंक पर क्लिक करते ही आपको एक नये पेज पर भेज दिया जाएगा. इस नये पेज पर आपको अपनी इनपुट फील्ड्स डालनी होंगी.
  • अब बतायी गई जगह पर अपने डिटेल्स सही-सही और सावधानी से भरें जैसे अपना 12 डिजिट का रोल नंबर आदि. सभी जानकारियां भरकर सबमिट का बटन दबा दें.
  • इतना करते ही आपका एडमिट कार्ड कंप्यूटर स्क्रीन पर दिख जाएगा. यहां से इसे डाउनलोड कर लें और चाहें तो भविष्य के लिए एक प्रिंट निकालकर भी रख सकते हैं.

केवल रजिस्टर्ड कैंडिडेट्स को ही मिलेगा एडमिट कार्ड –

वे कैंडिडेट्स जो एनआईओएस क्लास दसवीं और बारहवीं का एडमिट कार्ड डाउनलोड करने जा रहे हैं, वे एक बात जान लें कि एडमिट कार्ड्स केवल उन्हीं कैंडिडेट्स को उपलब्ध होंगे जिन्होंने खुद को रजिस्टर कराया है. बिना रजिस्ट्रेशन के आप एडमिट कार्ड डाउनलोड नहीं कर सकते.

नोटिस में दी जानकारी के अनुसार एनआईओएस एडमिट कार्ड केवल उन्हीं कैंडिडेट्स को उपलब्ध होंगे जिन्होंने एग्जाम फीस जमा की है और जिनकी फोटोग्राफ एनआईओएस के पास है. अगर नोटिस में दी भाषा की बात करें तो उसमें कहा गया है, “प्रिय शिक्षार्थी, आपका हॉल टिकट केवल तभी डाउनलोड हो पाएगा जब आपने जनवरी / फरवरी 2021 की पब्लिक परीक्षा के लिए परीक्षा शुल्क का भुगतान किया हो और अगर आपकी तस्वीर एनआईओएस के पास उपलब्ध हो. अगर आपका हॉल टिकट फोटो न होने के कारण उपलब्ध नहीं होता है, तो कृपया अपने क्षेत्रीय केंद्र से तुरंत संपर्क करें. “

IAS Success Story: बिना आंखों के देखा UPSC पास करने का सपना और पहले ही प्रयास में किया साकार

Education Loan Information:
Calculate Education Loan EMI

IAS Success Story: बिना आंखों के देखा UPSC पास करने का सपना और पहले ही प्रयास में किया साकार

0


Success Story Of IAS Topper Rakesh Sharma: यूपीएससी जैसी कठिन परीक्षा पास करने की योजना बनाना किसी भी कैंडिडेट के लिए बहुत बड़ा फैसला होता है. तमाम प्रयास, दिन-रात की मेहनत के बावजूद लोग एक सफलता को तरस जाते हैं. लेकिन ऐसे में राकेश शर्मा जैसे कैंडिडेट भी होते हैं जो जीवन की सबसे अहम कही जाने वाली शक्ति यानी देखने की शक्ति खोने के बावजूद इस फील्ड में आने का हौसला रखते हैं. जहां एक तरफ बड़े-बड़ों के लिए यह एग्जाम पास करना आसान नहीं होता वहीं राकेश ने अपने जैसे और लोगों की मदद करने के उद्देश्य से इस फील्ड में आने का फैसला किया और उनका जज्बा देखिए कि पहली ही बार में सेलेक्ट भी हो गए. आज जानते हैं राकेश शर्मा की सफलता की कहानी.

दिल्ली नॉलेज ट्रैक को दिए इंटरव्यू में राकेश ने अपनी जिंदगी के विभिन्न पहलुओं पर बात की साथ ही यूपीएससी परीक्षा की तैयारी के दौरान उन्हें कैसी समस्याएं आयीं और उन्होंने कैसे उनसे पार पाया, इस पर भी चर्चा की.

 

दो साल की उम्र में खोयी आंखों की रोशनी 

राकेश कहते हैं कि जब वे दो साल के थे तो एक दवा के रिएक्ट कर जाने के कारण उनकी आंखों की रोशनी चली गई. काफी इलाज के बावजूद कोई फायदा नहीं हुआ. राकेश का विजन पूरी तरह चला गया और वे बिलकुल भी देख नहीं सकते.

यह समय उनके माता-पिता के लिए भी बहुत कठिन था पर उन्होंने हिम्मत नहीं हारी. लोगों ने कुछ साल बाद उन्हें यहां तक सलाह दे डाली कि इसे किसी आश्रम में डाल दो ताकि ठीक से पल भी जाएगा और खाने-पीने की भी चिंता नहीं करनी होगी. लेकिन राकेश के मां-बाप ने मन में ठान लिया था कि वे इसे आम बच्चे की तरह ही पालेंगे और कभी इस कमी को उसके दिमाग पर हावी नहीं होने देंगे.

नहीं मिला सामान्य स्कूल में एडमिशन

राकेश बताते हैं कि जब स्कूल जाने की बारी आयी तो बहुत कोशिशों के बावजूद उन्हें सामान्य बच्चों के स्कूल में दाखिला नहीं मिल पाया. मजबूरन उन्हें स्पेशल स्कूल से अपनी पढ़ाई पूरी करनी पड़ी. बारहवीं तक सब ऐसा ही चला और उसके बाद जब राकेश को डीयू में एडमिशन मिला तो उनके जीवन में काफी बदलाव आए. यहां से उनका काफिडेंस लेवल काफी ऊपर बढ़ा. वे कहते हैं कि डीयू में होने वाली एक्टिविटीज और वहां के शिक्षक तथा साथियों के प्रोत्साहन से वे न केवल जीवन के तमाम और पहलुओं से वाकिफ हुए बल्कि उनके अंदर कुछ और बड़ा करने की इच्छा ने भी जन्म लिया. मोटे तौर पर कह सकते हैं कि उन्हें यहां वो एक्सपोजर मिला जिसकी उन्हें हमेशा से तलाश थी. इसके बाद राकेश ने कभी मुड़कर नहीं देखा.

राकेश शर्मा का दिल्ली नॉलेज ट्रैक को दिया इंटरव्यू आप यहां देख सकते हैं…

ऐसे आए सिविल सेवा के क्षेत्र में 

कॉलेज में होने वाली विभिन्न गतिविधियों के अंतर्गत एक बार राकेश का सामना एक बच्चे से हुआ जो अपना घर छोड़कर भागा था और किसी से अपने बारे में बात नहीं करता था. राकेश ने उसको डील किया, धीरे-धीरे वह सामान्य हो गया और अपने घर वापस लौट गया. उस लड़के के घरवालों ने राकेश को बहुत दुआएं दीं और यहीं से राकेश को लगा कि क्यों न कोई ऐसा काम किया जाए जिससे उस जैसे दूसरे बच्चों की मदद की जा सके. साथ ही विजन न होने से बचपन से लेकर आज तक जो कठिनाइयां उन्होंने फेस की उन्हें भी कम किया जा सके.

दूसरी की सेवा के विचार से राकेश सिविल सेवा के क्षेत्र में कूदे, जिसमें उनके साथियों, शिक्षकों और परिवार ने पूरा सपोर्ट दिया. इसी का नतीजा था कि राकेश ने दिल लगाकर मेहनत की और देख न पाने के बावजूद पहले ही प्रयास में विजेता बनकर निकले.

राकेश की सलाह 

राकेश कहते हैं कि पहले तो स्टडी मैटीरियल मिलने में ही बहुत समस्या आयी उसके बाद यूपीएससी परीक्षा के लिए नोट्स बनाना बहुत जरूरी है उन्हें उसमें भी बहुत परेशानी उठानी पड़ती थी लेकिन ऑप्शन न होने से वे बस दिन-रात लगे रहते थे. अपनी पूरी ताकत से उन्होंने परीक्षा की तैयारी की और इस सफर में उनके शिक्षकों ने उन्हें बहुत सहारा दिया. जहां भी फंसे उनकी आगे बढ़कर सहायता की.

राकेश कहते हैं कि अगर उनके मां-बाप ने उन पर दया दिखायी होती तो वे शायद कभी यहां तक नहीं पहुंचते. सच तो यह है कि उनके परिवार, दोस्तों और शिक्षकों, किसी ने कभी उनके साथ सिम्पैथी नहीं दिखायी और उन्हें हमेशा आम इंसान की तरह ट्रीट किया. इसका फायदा यह हुआ कि उनके अंदर यह कांफिडेंस आया कि वे  भी आम कैंडिडेट की तरह न केवल यह परीक्षा दे सकते हैं बल्कि इसमें सफल भी हो सकते हैं.

राकेश अंत में यही कहते हैं कि हिम्मत रखिए और इस परीक्षा को भी आम परीक्षा की तरह ही देखिए. अगर ठान लिया जाए तो दुनिया में ऐसा कोई काम नहीं जिसे न किया जा सके. अपनी कमी को कभी भी अपने ऊपर हावी न होने दें और खुद को यह विश्वास दिलाएं कि जो दूसरे कर सकते हैं आप भी कर सकते हैं. इससे सफलता मिलना आसान हो जाएगा.

  IAS Success Story: किसान के इस बेटे ने बिना संसाधनों के दूसरे प्रयास में ऐसे पूरा किया UPSC का सफर

Education Loan Information:
Calculate Education Loan EMI

DSSSB Recruitment 2021: दिल्ली के गवर्नमेंट स्कूलों में 3700 शिक्षकों और उप प्रधानाचार्यों की जल्द होगी सीधी भर्ती

0


DSSSB Recruitment 2021: दिल्ली के सरकारी स्कूलों में नए साल में शिक्षकों और उप प्रधानाचार्यों के खाली पड़े पदों पर भर्ती के लिए कवायद शुरू हो गई है. बता दें  कि गुरुवार को इन खाली पड़े पदों पर भर्ती करने के लिए प्रधान सचिव शिक्षा की अध्यक्षता में एक बैठक की गई. इस बैठक में खाली पड़े इन पदों पर सीधी भर्ती हेतु सम्बंधित नियोक्ता एजेंसी को प्रस्ताव भेजने पर आम सहमति बन गई है. जिसमें शिक्षकों के कुल 3500 पदों और उप प्रधानाचार्यों के कुल 268 पदों पर प्रस्ताव भेजने की आम सहमति बनी है.

शिक्षकों के कुल 3500 पदों में होगी इन शिक्षकों की भर्ती: शिक्षा निदेशक की मौजूदगी और प्रधान सचिव शिक्षा की अध्यक्षता में संपन्न हुई बैठक में शिक्षकों के जिन 3500 पदों पर भर्ती के लिए सहमति बनी है उसमें 945 पदों पर स्नातक प्रशिक्षित शिक्षक (टीजीटी), 1449 पदों पर परास्नातक प्रशिक्षित शिक्षक (पीजीटी) और 1200 पदों पर विभिन्न शिक्षकों की भर्ती की जाएगी.

उप प्रधानाचार्यों के भी भरे जाएंगे 268 पद: 3500 शिक्षकों के साथ ही इस बैठक में 268 उप प्रधानाचार्यों के पदों को भी भरने का फैसला लिया गया. इस बैठक में यह फैसला किया गया कि उप प्रधानाचार्यों के खाली पड़े इन पदों को पदोन्नति के बजाय सीधी भर्ती से भरा जाएगा. इन पदों पर सीधी भर्ती संघ लोक सेवा आयोग (यूपीएससी) के जरिए किया जाएगा. बैठक में शिक्षा निदेशालय ने उप प्रधानाचार्यों की नियुक्ति प्रक्रिया को सिंगल विंडो के आधार पर करने का फैसला किया है.

भर्ती के लिए शिक्षा निदेशालय DSSSB को भेजेगा प्रस्ताव: शिक्षकों और उप प्रधानाचार्यों के खाली पड़े 3700 पदों पर भर्ती प्रक्रिया को शुरू करने के लिए शिक्षा निदेशालय ने अपनी तैयारियों को अंतिम जामा भी पहना चुका है. जिसके तहत शिक्षकों की भर्ती प्रक्रिया को शुरू करने के लिए प्रस्ताव 15 जनवरी 2021 को दिल्ली अधीनस्थ सेवा चयन बोर्ड (DSSSB) के पास भेज दिया जाएगा. जबकि उप प्रधानाचार्यों की भर्ती के लिए प्रस्ताव अगले सप्ताह यूपीएससी को भेजा जाएगा.  

Education Loan Information:
Calculate Education Loan EMI

UPMSP UP Board Exam 2021 update: 56 लाख स्टूडेंट्स देंगे 2021 की यूपी बोर्ड परीक्षा, जानें अन्य अहम जानकारियां

0


UPMSP UP Board Exam 2021 Latest Update: सीबीएसई द्वारा 2021 की बोर्ड परीक्षाओं की तारीखों के ऐलान के बाद यूपीएमएसपी ने भी 2021 की बोर्ड परीक्षाओं को अप्रैल में कराने की अपनी तैयारी शुरु कर दिया है. बता दें कि सीबीएसई अपनी 2021 की बोर्ड परीक्षाएं  04 मई से कराने जा रहा है. चूंकि इस साल मार्च में यूपी में पंचायत के चुनाव होने हैं इसलिए सरकार बोर्ड की परीक्षाएं अप्रैल में कराने की योजना बना रही है. बोर्ड परीक्षाओं को अप्रैल में कराने का अंतिम निर्णय 14 जनवरी 2021 को होने वाली बैठक में लिया जाएगा.

इस साल करीब 56 लाख स्टूडेंट्स बोर्ड परीक्षा में होंगे शामिल: इस साल यूपी बोर्ड को 10वीं और 12वीं कक्षा के लिए कुल मिलाकर करीब 56 लाख 03 हजार 813 परीक्षा फॉर्म प्राप्त हुए हैं. जिसमें से 10वीं कक्षा के लिए कुल 26 लाख 09 हजार 501 परीक्षा फॉर्म और 12वीं कक्षा के लिए कुल 29 लाख 94 हजार 312 परीक्षा फॉर्म प्राप्त हुए हैं. इस साल 10वीं और 12वीं कक्षाओं की बोर्ड परीक्षा में शामिल होने वाली छात्राओं की संख्या पर नजर डालें तो इस साल 10वीं कक्षा की बोर्ड परीक्षा के लिए कुल करीब 11 लाख 35 हजार 730 और 12वीं कक्षा की बोर्ड परीक्षा के लिए कुल करीब 13 लाख 20 हजार 290 छात्राओं ने परीक्षा फॉर्म भरा है. वहीँ छात्रों की यह संख्या 10वीं कक्षा के लिए 14 लाख 73 हजार 771 और 12वीं कक्षा के लिए कुल करीब 16 लाख 74 हजार 022 है.

2021 की यूपी बोर्ड परीक्षा में होगा यह बदलाव: कोविड-19 महामारी को देखते हुए 2021 की बोर्ड परीक्षा में कई बदलाव होने की संभावना है. जैसे कि जहां पिछले साल परीक्षा केन्द्रों की कुल संख्या 7 हजार 783 थी वहीँ इस साल 2021 में परीक्षा केन्द्रों की कुल संख्या 14000 के करीब होने की संभावना है. पिछली साल जहां एक परीक्षा केंद्र पर अधिकतम 1200 स्टूडेंट्स परीक्षा दे सकते थे वहीँ इस साल एक परीक्षा केंद्र पर अधिकतम 800 स्टूडेंट्स ही परीक्षा दे सकते हैं. इस साल एक परीक्षा कक्ष में केवल 14 से 15 स्टूडेंट्स ही परीक्षा में बैठ सकेंगे.

Education Loan Information:
Calculate Education Loan EMI

BSEB Bihar Board 10th admit card 2021: ऐसे डाउनलोड करें बिहार बोर्ड मैट्रिक परीक्षा एडमिट कार्ड, आज होगा जारी

0


BSEB Bihar Board Matric Admit Card 2021: बिहार बोर्ड मैट्रिक परीक्षा 2021 के एडमिट कार्ड आज यानी 10 जनवरी 2021 को जारी किये जायेंगे. बिहार बोर्ड 10वीं मैट्रिक परीक्षा का एडमिट कार्ड जारी होने के बाद सभी स्टूडेंट्स बोर्ड की वेबसाइट biharboardonline.com पर जाकर डाउनलोड कर सकते हैं.  बिहार बोर्ड मैट्रिक वार्षिक परीक्षा 17 से 24 फरवरी 2021 तक आयोजित की जायेगी.

ये कहा बिहार बोर्ड के अध्यक्ष ने

बिहार बोर्ड अध्यक्ष आनंद किशोर ने बताया कि 10 वीं परीक्षा में शामिल होने जा रहे सभी कैंडिडेट्स BSEB मैट्रिक परीक्षा एडमिट कार्ड बोर्ड की आधिकारिक वेबसाइट biharboardonline.com पर जाकर रविवार (10 जनवरी, 20221) से डाउनलोड किए जा सकेंगे. सभी स्टूडेंट्स इसी एडमिट कार्ड से मैट्रिक की वार्षिक परीक्षा और इंटरनल असेसमेंट/प्रायोगिक परीक्षा दोनों तरह के एग्जाम में शामिल हो सकेंगे.

इस तारीख से होगी बिहार बोर्ड मैट्रिक परीक्षाएं  

जारी नोटिस के मुताबिक़ बिहार बोर्ड मैट्रिक के इंटरनल असेसमेंट/प्रैक्टिकल परीक्षा का आयोजन 20 जनवरी से 22 जनवरी तक और वार्षिक मुख्य परीक्षा का आयोजन 17 फरवरी से 24 फरवरी 2021 तक किया जाएगा.

प्रिंसिपल डाउनलोड कर स्टूडेंट्स को देंगे मैट्रिक एडमिट कार्ड

बिहार बोर्ड ने सभी शिक्षण संस्थानों को निर्देश दिया है कि माध्यमिक स्तर के शिक्षण संस्थानों के प्रधान बोर्ड की ऑफिशियल वेबसाइट biharboardonline.com पर जाकर अपने यूजर आईडी एवं पासवर्ड के माध्यम से एडमिट कार्ड को डाउनलोड कर उसपर अपने हस्ताक्षर एवं मुहर के साथ सभी संबंधित स्टूडेंट्स को उपलब्ध कराएं जिससे स्टूडेंट्स को इंटरनल एसेसमेंट/ प्रैक्टिकल परीक्षा एवं सैद्धांतिक परीक्षा में शामिल होने में कोई दिक्कत ना आये.

इन्हें नहीं दिया जायेगा एडमिट कार्ड

सेंटअप परीक्षा में शामिल न होने वाले या इस परीक्षा में फेल होने वाले को एडमिट कार्ड नहीं दिया जाएगा. बोर्ड अध्यक्ष ने कहा कि नॉन सेंटअप वाले छात्र को प्रवेश पत्र जारी नहीं किया जाएगा.

बिहार बोर्ड मैट्रिक परीक्षा 2021 का एडमिट कार्ड डाउनलोड करने में किसी प्रकार की समस्या होने पर बोर्ड के हेल्पलाइन नंबर- 0612-2232074, 2232257 पर संपर्क कर सकते हैं.

Education Loan Information:
Calculate Education Loan EMI

Rajasthan Police Constable Result: जानें कब तक आएगा राजस्थान पुलिस कांस्टेबल भर्ती का रिजल्ट

0


Rajasthan Police Constable Exam Result 2021: राजस्थान पुलिस कांस्टेबल भर्ती परीक्षा 2020 के रिजल्ट का इंतजार कर रहे कैंडिडेट्स के लिए एक बहुत आवश्यक खबर आई है. राजस्थान हाईकोर्ट ने राजस्थान पुलिस कांस्टेबल के 5438 पदों की भर्ती के मामले में आयोजित लिखित परीक्षा के जिलेवार नतीजे जारी करने पर अंतरिम रोक लगा दी है. राजस्थान पुलिस कांस्टेबल भर्ती लिखित परीक्षा का रिजल्ट जनवरी 2021 में जारी किया जाने वाला था. जिसके चलते अब इस रिजल्ट को घोषित होने में देरी हो सकती है.

इस तारीख को हुई थी राजस्थान पुलिस कांस्टेबल भर्ती लिखित परीक्षा

राजस्थान पुलिस कांस्टेबल भर्ती लिखित परीक्षा 2020 का आयोजन 6, 7 व 8 नवंबर 2020 को प्रदेश के करीब-करीब सभी जिला मुख्यालयों में बनाये गए परीक्षा केंद्रों पर आयोजित की गई थी. इस परीक्षा में करीब 13 लाख अभ्यर्थी शामिल हुए थे. इसकी फाइनल उत्तरकुंजी जारी की जा चुकी है. हाईकोर्ट द्वारा अंतरिम रोक लग जाने के बाद यह रिजल्ट अब मामले के निपटारे के बाद ही जारी किये जायेंगे. अदालत ने इस संबंध में राज्य सरकार व पुलिस प्रशासन को भी नोटिस जारी कर मामले में 20 जनवरी 2021 तक जवाब देने को कहा है.

याचिका में की गई है राज्य स्तर पर मेरिट लिस्ट बनाने की मांग

हाईकोर्ट के न्यायाधीश न्यायमूर्ति संजीव प्रकाश शर्मा की बेंच ने यह निर्देश जहीर अहमद की याचिका पर दिया. जहीर अहमद द्वारा जारी इस याचिका में पुलिस कांस्टेबल भर्ती परीक्षा की जिलेवार मेरिट जारी करने की प्रक्रिया को चुनौती दी गई थी. याचिका में कोर्ट से यह मांग की गई है कि जब सभी जिलों में एक भर्ती विज्ञापन से भर्तियां हो रही हैं तो प्रदेश स्तर पर भी एक ही परिणाम निकाल कर एक ही कटऑफ जारी किये जाने चाहिए. यदि हर जिले के लिए अलग-अलग नतीजे जारी कर अलग – अलग कटऑफ जारी किये जायेंगे तो कैंडिडेट्स के साथ भेदभाव होगा. याचिका में मांग की गई है कि पूरे राजस्थान की एक ही मेरिट लिस्ट जारी की जाए. इस पर हाईकोर्ट ने परीक्षा परिणाम जारी करने पर रोक लगाने का फैसला सुनाया.

ये है नियम

याचिकाकर्ता जहीर अहमद के वकील अजाज नबी ने बताया कि राजस्थान पुलिस अधीनस्थ सेवा नियम-1989 के नियम संख्या 25 में प्रावधान है कि सूबे में पुलिस भर्ती में एक ही संयुक्त मेरिट बनेगी. इसके लिए तत्कालीन डीजीपी राजस्थान द्वारा स्थायी आदेश भी जारी किया गया था. राजस्थान पुलिस भर्ती में संयुक्त मेरिट बनाने का प्रावधान था.

Education Loan Information:
Calculate Education Loan EMI

UPTET 2020-2021: NIOS से DElEd करने वालों को PNP से झटका, यूपीटीईटी में नहीं मिलेगा मौका, जानें सरकार से क्या कहा

0


UPTET 2020-2021: पीएनपी {परीक्षा नियामक प्राधिकारी कार्यालय} प्रयागराज, ने आगामी मार्च 2021 में होने वाली उत्तर प्रदेश शिक्षक पात्रता परीक्षा (यूपीटीईटी) 2020, में राष्ट्रीय मुक्त विद्यालयी संस्थान (एनआईओएस) से डीएलएड करने वाले अभ्यर्थियों को शामिल करने से इंकार कर दिया है.

दरअसल मामला यह है कि पीएनपी ने जो प्रस्ताव शासन के पास भेजा है उस प्रस्ताव में एनआईओएस से डीएलएड करने वाले अभ्यर्थियों को उसने  शामिल नहीं किया है. इसके पीछे पीएनपी का यह तर्क है कि चूंकि यूपीटीईटी की परीक्षा में शामिल होने के लिए न्यूनतम दो वर्ष का शिक्षक प्रशिक्षण कोर्स करना अनिवार्य है. जबकि एनआईओएस से डीएलएड करने वाले अभ्यर्थियों ने केवल 18 महीने का पत्राचार कोर्स किया हुआ है. वहीँ राष्ट्रीय अध्यापक शिक्षा परिषद् (एनसीटीई) ने एनआईओएस से डीएलएड करने वालों को शिक्षक भर्ती के लिए पात्र माना है.

अभ्यर्थियों का यह है तर्क: यूपीटीईटी 2020 में शामिल न करने के मामले में एनआईओएस से डीएलएड करने वाले अभ्यर्थियों का कहना है कि हम लोग पहले से ही स्कूलों में शिक्षण कार्य कर रहे हैं. दो वर्ष के शिक्षक प्रशिक्षण कोर्स के मामले में अभ्यर्थियों का कहना है कि इस कोर्स में 6 महीने प्रशिक्षार्थियों को स्कूल पर जाकर शिक्षण कार्य करना होता है और हम लोग पहले से ही स्कूल पर शिक्षण कार्य कर रहे हैं इसलिए हमें यह कोर्स केवल 18 माह यानि कि डेढ़ वर्ष का ही कराया गया है. इसलिए पीएनपी के द्वारा बनाया गया यह प्रस्ताव हम लोगों के साथ नाइंसाफी है.

वहीँ अभ्यर्थियों का यह भी कहना है कि वे सब मिलकर अभी सरकार से अनुरोध करेंगे और यदि सरकार हमारी बातें न मानी तो हम कोर्ट की शरण में जाएंगे. आपको यहीं यह भी बता दें कि उत्तर प्रदेश में करीब एक लाख पचास हजार अभ्यर्थियों ने एनआईओएस से डीएलएड किया हुआ है.   

Education Loan Information:
Calculate Education Loan EMI

IAS Success Story: किसान के इस बेटे ने बिना संसाधनों के दूसरे प्रयास में ऐसे पूरा किया UPSC का सफर

0


Success Story Of IAS Topper Mintu Lal Meena: दौसा राजस्थान के एक छोटे से गांव धरणवास के मिंटू लाल मीणा की यूपीएससी जर्नी खासी लंबी नहीं रही लेकिन उनकी लाइफ की जर्नी काफी कठिन रही. मिंटू ने साल 2018 में यूपीएससी सीएसई परीक्षा पास की. यह उनका दूसरा प्रयास था. इसके पहले भी मिंटू का यूपीएससी प्रदर्शन काफी अच्छा रहा था, जब अपने पहले ही अटेम्प्ट में वे साक्षात्कार राउंड तक पहुंच गए थे. हालांकि इस राउंड तक पहुंचने के बाद भी मिंटू का फाइनल लिस्ट में नाम नहीं आया लेकिन उनका उत्साहवर्धन काफी हुआ. उनके अंदर विश्वास पनपा कि जब वे पहले ही प्रयास में इंटरव्यू राउंड तक पहुंच सकते हैं तो थोड़ी और मेहनत करके अगले प्रयास में रैंक भी पा सकते हैं. हुआ भी यही और मिंटू ने दूसरे प्रयास में सारे चरण पास करते हुए सेलेक्शन पक्का किया और उन्हें रैंक के अनुसार आईआरएस यानी इंडियन रेवेन्यू सर्विस एलॉट हुई.

दिल्ली नॉलेज ट्रैक को दिए इंटरव्यू में मिंटू लाल मीणा ने यूपीएससी परीक्षा पास करने के टिप्स के साथ ही मुख्यतः इतिहास विषय को ऑप्शनल के तौर पर कैसे पढ़ें, इस बारे में चर्चा की.

मिंटू की प्रारंभिक शिक्षा 

मिंटू के पिता किसान और मां गृहणी हैं. मिंटू बचपन में अपने माता-पिता के साथ खेतों पर जाते थे और उन्हें इसी में आनंद आता था. हालांकि मां पढ़ाई को लेकर सख्त थी इसलिए उन्होंने मिंटू को जबरदस्ती स्कूल भेजा जिसमें उनका बिलकुल मन नहीं लगता था. खैर एक सामान्य सरकारी स्कूल से उनकी शिक्षा हुई. बिजली की भी सुविधा न होने के कारण मिंटू कभी दिया जलाकर पढ़ते थे तो कभी पास वाले मंदिर में लगे बल्ब की रोशनी में. इस प्रकार उनकी शुरुआती शिक्षा पूरी हुई. पैसों की तंगी के कारण मिंटू ने जल्द ही प्रतियोगी परीक्षाएं देना आरंभ कर दी थी और 12वीं के बाद ही पटवारी की नौकरी करने लगे. हालांकि इस पटवारी को अधिकारी बनना था इसलिए वे यहां नहीं रुके और निरंतर परीक्षाएं देते गए.

यूजीसी नेट जेआरएफ के लिए भी हुआ चयन 

जब मिंटू इतिहास विषय के साथ अपने लगाव या पुराने जुड़ाव को समझाते हैं तो पता चलता है कि ग्रेजुएशन से लेकर पोस्ट ग्रेजुएशन यहां तक कि नेट परीक्षा में भी मिंटू के पास इतिहास विषय ही था. इस विषय से इतने पुराने नाते के कारण ही मिंटू ने इसे ही यूपीएससी परीक्षा का ऑप्शनल बनाया जो काफी फायदेमंद भी साबित हुआ. दोनों ही प्रयासों में मिंटू के इतिहास विषय में काफी अच्छे अंक आए थे. पहले अटेम्प्ट में मिंटू का सेलेक्शन नहीं हुआ था लेकिन उनके ऑप्शनल में अच्छे अंक थे. उन्होंने इसी विषय से यूजीसी नेट जेआरएफ भी क्वालीफाई किया था.

मिंटू का मानना है कि इतिहास विषय हिंदी मीडियम वालों के लिए एक अच्छा विकल्प है अगर उन्हें इस विषय में रुचि है. जहां तक उनकी अपनी बात है तो उन्होंने हमेशा से इसी विषय से पढ़ाई की थी और ये विषय स्कोरिंग भी है इसलिए उन्होंने इतिहास विषय को चुना.

यहां देखें मिंटू लाल मीणा का इंटरव्यू

 सिलेबस और पिछले साल के प्रश्न-पत्र जरूर देखें 

मिंटू इतिहास विषय की तैयारी के लिए पिछले साल के प्रश्न-पत्र देखने पर खासा जोर देते हैं. वे कहते हैं कि पिछले सालों के प्रश्न-पत्र से आपको अंदाजा हो जाता है कि किस सब्जेक्ट से कैसे प्रश्न बनते हैं. पढ़ाई करना और कोई विषय तैयार कर लेने से काम नहीं चलता जब तक आप यह नहीं जान पाते कि इस एरिया से कैसे प्रश्न पूछे जा सकते हैं.

मिंटू आगे कहते हैं कि हर तीन-चार दिन में सिलेबस जरूर चेक करें. इतना और इस कदर की आपको सिलेबस रट जाए. इससे तैयारी करना आसान हो जाता है. ऐसे आप जब किसी किताब को पढ़ रहे होते हैं तो आपको पता होता है कि इस एरिया से ज्यादा क्वैश्चंस आ सकते हैं.

मिंटू की सलाह 

इतिहास की तैयारी के लिए मिंटू मैप्स को बहुत महत्व देते हैं. वे कहते हैं कि अगर आपने मैप्स ठीक से तैयार कर लिए तो समझिए आपके 30 से 40 नंबर पक्के हुए. इसलिए मैप्स की तैयारी अच्छे से करें और जिस भी प्रश्न में मैप बनाने की जरा भी संभावना हो तो मैप जरूर बनाएं.

अगली जरूरी चीज है टेस्ट सीरीज देना. मिंटू कहते हैं कि टेस्ट चाहे ऑनलाइन दें चाहें ऑफलाइन लेकिन जरूर दें. इससे आपकी प्रैक्टिस होती है, कमियां पता चलती हैं जिन पर आप वर्क कर सकते हैं और पेपर जैसे माहौल में परीक्षा देने की आदत भी पड़ती है. बाकी परीक्षा की तैयारी के लिए स्टैंडर्ड बुक्स ही चुनें. एक स्तर तक तैयारी पहुंच जाए तो आंसर राइटिंग प्रैक्टिस करें और समय रहते अपनी कमजोरियों पर विजय पाएं तभी आप इस परीक्षा में सफल हो सकते हैं.

UPSC Recruitment 2021: यूपीएससी ने विभिन्न पदों पर आरंभ की ऑनलाइन आवेदन प्रक्रिया, जानें विस्तार से

MP Police Constable Recruitment 2021: 4000 पदों के लिए स्थगित हुई आवेदन प्रक्रिया, नई तारीखों की घोषणा जल्द  

Education Loan Information:
Calculate Education Loan EMI

MP Police Constable Recruitment 2021: 4000 पदों के लिए स्थगित हुई आवेदन प्रक्रिया, नई तारीखों की घोषणा जल्द

0


MP Police Constable Recruitment 2021: मध्य प्रदेश प्रोफेशनल एग्जामिनेशन बोर्ड ने मध्य प्रदेश पुलिस कांस्टेबल रिक्रूटमेंट 2021 के लिए ऑनलाइन आवेदन प्रक्रिया फिलहाल स्थगित कर दी है. इस भर्ती प्रक्रिया के लिए ऑनलाइन आवेदन प्रक्रिया कल यानी 08 जनवरी 2021 से आरंभ होनी थी लेकिन वेबसाइट पर दिए नोटिस के अनुसार कुछ तकनीकी समस्या के कारण आवेदन प्रक्रिया स्थगित कर दी गई है. संभवतः अब आवेदन एक हफ्ता देरी से शुरू होंगे.

इस बारे में सूचना एमपीपीईबी की आधिकारिक वेबसाइट पर प्रेषित की जाएगी. कैंडिडेट्स से अनुरोध है कि वे ताजा जानकारियों के लिए समय-समय पर मध्य प्रदेश प्रोफेशनल एग्जामिनेशन बोर्ड की ऑफिशियल वेबसाइट देखते रहें. ऐसा करने के लिए ऑफिशियल वेबसाइट का एड्रेस है – peb.mp.gov.in.

इस वेबसाइट पर आवेदन करने के साथ ही आप इन पदों से संबंधित अहम जानकारियां भी प्राप्त कर सकते हैं. जहां तक एमपी पुलिस कांस्टेबल पदों के लिए आयोजित होने वाली लिखित परीक्षा की बात है तो लिखित परीक्षा 06 मार्च 2021 के दिन आयोजित की जाएगी.

क्या है आवेदन प्रक्रिया स्थगित होने का कारण –

इस बारे में डिपार्टमेंट का कहना है कि मध्यप्रदेश पुलिस में कांस्टेबल के 4000 पदों पर भर्ती के लिए ऑनलाइन आवेदनों में ईडब्ल्यूएस, 10वीं और 12वीं के प्रमाणपत्र अपलोड करने की सुविधा सॉफ्टवेयर में नहीं थी. यह जानकारी प्रोफेशनल एग्जामिनेशन बोर्ड को दे दी गई है. इस परेशानी को दूर करने के लिए ही आवेदन प्रक्रिया को स्थगित किया गया है. एक हफ्ते में सॉफ्टवेयर में सुधार कर फिर से ऑनलाइन आवेदन की प्रक्रिया शुरू की जायेगी.

दूसरी बार हुआ है ऐसा –

आपकी जानकारी के लिए बता दें ये दूसरी बार है जब आवेदन की प्रक्रिया स्थगित की गई है. पहले यह दिसंबर के आखिरी हफ्ते में शुरू होनी थी लेकिन नहीं हुई. इसके अलावा वेबसाइट पर यह भी जानकारी दी गई है कि आवेदन की अंतिम तिथि 22 जनवरी है. हालांकि यह तारीख उस स्थिति में थी जब आवेदन 08 जनवरी से आरंभ होने थे. अब अगर आवेदन की प्रक्रिया और देरी से शुरू होती है तो ये अंतिम तिथि और आगे बढ़ सकती है. बेहतर होगा ताजा अपडेट्स के लिए कैंडिडेट समय-समय पर आधिकारिक वेबसाइट चेक करते रहें और किसी और माध्यम से मिली जानकारी पर विश्वास न करें.

इस रिक्रूटमेंट ड्राइव के अंतर्गत कुल 4000 पदों को भरा जाना है. इन पदों में से 3862 पद जीडी कांस्टेबल के हैं और 138 पद रेडियो कांस्टेबल के.

UPSC Recruitment 2021: यूपीएससी ने विभिन्न पदों पर आरंभ की ऑनलाइन आवेदन प्रक्रिया, जानें विस्तार से

CBSE CTET Admit Card 2020: जल्द रिलीज होंगे सीटीईटी परीक्षा के एडमिट कार्ड, यहां जानें परीक्षा से संबंधित अन्य अहम जानकारियां

Education Loan Information:
Calculate Education Loan EMI

UPSC Recruitment 2021: यूपीएससी ने विभिन्न पदों पर शुरू की ऑनलाइन आवेदन प्रक्रिया, जानें विस्तार से

0


UPSC Recruitment 2021: यूनियन पब्लिक सर्विस कमीशन ने ग्रेड थ्री के 46 विभिन्न पदों पर आवेदन प्रक्रिया आरंभ कर दी है. इस रिक्रूटमेंट ड्राइव के अंतर्गत असिस्टेंट डायरेक्टर (शिपिंग), स्पेशलिस्ट ग्रेड III असिस्टेंट प्रोफेसर, असिस्टेंट डायरेक्टर आदि पदों को भरा जाएगा. योग्य और इच्छुक उम्मीदवार बताए गए प्रारूप में अंतिम तिथि के पहले फॉर्म भर सकते हैं. इस बात का ध्यान रखें कि आवेदन केवल ऑनलाइन ही हो सकते हैं, किसी और माध्यम से अप्लाई करने का प्रयास न करें. ऑनलाइन आवेदन के लिए वेबसाइट का एड्रेस है – upsc.gov.in.

यहां यह भी बताना जरूरी हो जाता है कि यूपीएससी के इन 46 पदों के लिए ऑनलाइन आवेदन करने की अंतिम तारीख 28 जनवरी 2021 है. इस तारीख के बाद किए गए आवेदन स्वीकार नहीं होंगे.

वैकेंसी विवरण –

संघ लोक सेवा आयोग के ग्रेड थ्री पदों के अंतर्गत निम्नलिखित पद भरे जाएंगे. असिस्टेंट डायरेक्टर (शिपिंग), स्पेशलिस्ट ग्रेड III असिस्टेंट प्रोफेसर (डर्मेटोलॉजी, वेनेरोलॉजी एंड लेप्रोसी), स्पेशलिस्ट ग्रेड III असिस्टेंट प्रोफेसर (मेडिकल गैस्ट्रोएंटरोलॉजी), स्पेशलिस्ट ग्रेड- IIIअसिस्टेंट प्रोफेसर (नेत्र रोग), स्पेशलिस्ट ग्रेड- III असिस्टेंट प्रोफेसर,स्पेशलिस्ट ग्रेड- III असिस्टेंट प्रोफेसर (पीडियाट्रिक कार्डियोलॉजी),स्पेशलिस्ट ग्रेड III असिस्टेंट प्रोफेसर (पीडियाट्रिक सर्जरी), स्पेशलिस्ट ग्रेड III असिस्टेंट प्रोफेसर (प्लास्टिक एंड रिकंस्ट्रक्टिव सर्जरी) और असिस्टेंट डायरेक्टर (बैलिस्टिक).

न्यूनतम योग्यताएं –

संघ लोक सेवा आयोग के इन पदों के लिए न्यूनतम शैक्षिक योग्यता पद के अनुसार भिन्न है. बेहतर होगा हर पद के विषय में विस्तार से जानकारी हासिल करने के लिए आप यूपीएससी की आधिकारिक वेबसाइट पर दिया ऑफिशियल लिंक देख लें. यहां आपको सारे डिटेल्स मिल जाएंगे.

कैसे होगा चयन –

कैंडिडेट्स द्वारा प्रेषित जानकारियों के आधार पर उन्हें इंटरव्यू के लिए शॉर्टलिस्ट किया जाएगा. इस साक्षात्कार पर ही मुख्यतः चयन निर्भर करेगा. एक बात का और ध्यान रखें कि ऑनलाइन एप्लीकेशन के साथ ही संबंधित डॉक्यूमेंट्स/सर्टिफिकेट्स आदि की सेल्फ अटेस्टेड कॉपीज भी जरूर लगाएं, जैसा की कमीशन द्वारा नियमानुसार कहा गया हो.

IAS Success Story: बिना कोचिंग के केवल सेल्फ स्टडी से कैसे पास की निखिल ने UPSC परीक्षा? जानें

CBSE CTET Admit Card 2020: जल्द रिलीज होंगे सीटीईटी परीक्षा के एडमिट कार्ड, यहां जानें परीक्षा से संबंधित अन्य अहम जानकारियां

Education Loan Information:
Calculate Education Loan EMI